You are currently viewing <strong>fdn full form | fdn contacts meaning in hindi</strong>
fdn contacts meaning in hindi

fdn full form | fdn contacts meaning in hindi

fdn full form | fdn contacts meaning in hindi आज हम जानेंगे FDN क्या है ?  इसको enable या on कैसे किया जाता है और बंद कैसे किया जाता हैं।

इस भागम भाग दौड़ की जिंदगी में हम इस प्रकार व्यस्त रहते हैं कि कभी कबार हमसे गलती से किसी और के पास फोन कॉल चला जाता है और ज्यादातर यह घर के छोटे बच्चे द्वारा कर दिया जाता है, तो इसका solution FDN जो सभी सिम ऑपरेटर द्वारा दिया जाता है और यह सभी एंड्राइड फोन में मौजूद रहता है ।

FDN सर्विस की सहायता से हम outgoing call को कंट्रोल कर सकते हैं या जिसके पास हम फोन फोन लगाना चाहते हैं तो हम आउटगोइंग कॉल फिक्स कर सकते हैं और उसके अलावा किसी के पास हमारा फोन कॉल नहीं जाता है जब तक हम FDN Contacts list के अंदर उस नंबर को ऐड नही कर लेते हैं।

fdn full form | fdn contacts meaning in hindi

FDN का Full Form Fixed Dialing Number होता है | इसके अंतर्गत जो भी हम नंबर FDN के अंदर जोड़ते हैं सिर्फ उसी के पास हम फोन कॉल कर पाते हैं इससे कोई भी प्रभाव हमारे इनकमिंग कॉल पर नहीं पड़ता है।

FDN kya hai ? इसको कह सकते हैं कि जो हमारी आउटगोइंग कॉल को नियंत्रित या कंट्रोल करता है और इसके अंदर हम जिस भी मोबाइल नंबर को FDN में जोड़ते या add करते हैं सिर्फ हम उसी के पास कॉल कर सकते हैं।

  1. हमारे घर में छोटे बच्चे होते हैं जब उनके हाथ में मोबाइल फोन देते हैं तो हमें यही डर लगता है कि वह कहीं फोन कॉल ना कर दे तो हम FDN Contacts के अंदर 1234567890 मोबाइल नंबर को जोड़ते हैं और वही अगर हम 0987654321 को FDN के अंदर नहीं जोड़ते हैं ,जब भी हम फोन कॉल करेंगे तो सिर्फ 1234567890 पर ही कॉल जाएगा और वही अगर हम 0987654321 पर कॉल करते हैं तो हमारा फोन कॉल रिजेक्ट हो जाएगा इससे हम बेफिक्रे घर में छोटे बच्चे को मोबाइल फोन दे सकते हैं जिससे वह बेमतलब की कॉल कहीं नहीं कर पाएंगे।
  2. अगर हम अपने मोबाइल फोन में Airtel Sim पर FDN को चालू करना चाहते हैं तो हम ऐसे समझ सकते हैं कि अगर हम एफडीएन के लिस्ट में 198 और 199 को जोड़ते या Add करते हैं तब जब भी कोई हमारे एयरटेल सिम से कॉल करेगा तो दूसरे किसी नंबर पर आउटगोइंग कॉल नहीं जाएगा.

जब हम 198 और 199 के अलावा किसी और पर फोन लगाते हैं तो वहां पर Outgoing Calls are Restricted by FDN लिखकर आता है अगर वही हम keypad phone से फोन लगाते हैं तो Call Not Allowed Fixed Dailing Number Active यह लिखकर आता है क्योंकि हमने FDN के अंदर 198 और 199 Number को ऐड किया है जिसके कारण हम किसी और नंबर पर आउटगोइंग कॉल नहीं कर सकते हैं।

अगर हम FDN का लाभ उठाना चाहते हैं तो उठा सकते हैं क्योंकि यह एकदम Free Service है जो हमारे मोबाइल फोन में पहले से मौजूद रहती है चाहे हम Android, Keypad Phone, Blackberry, iPhone चाहे हम किसी भी कंपनी का phone या smartphone इस्तेमाल करते हो।

फिक्स्ड डायलिंग नंबर का function हमें कहां मिलता है ?

FDN सभी मोबाइल फोन में उपलब्ध होता है चाहे हम स्मार्टफोन इस्तेमाल करते हो या पुराने कीपैड मोबाइल फोन सभी प्रकार के मोबाइल फोन में FDN Contacts का function रहता है और सभी सिम कार्ड ऑपरेटर द्वारा इसकी सुविधाएं दी जाती है चाहे हम Jio, airtel या किसी भी कंपनी का सिम कार्ड इस्तेमाल करते हो सब में इसकी सुविधा दी जाती है।

FDN ko enable kase kare

फिक्स्ड डायलिंग नंबर को सक्रिय करने के लिए हमें सबसे पहले सेटिंग में जाना होगा और उसके बाद  एफडीएन को खोजना होगा क्योंकि हर मोबाइल फोन में एफडीएन अलग-अलग जगह दिया रहता है।

सबसे आसान तरीका है FDN को खोजने का आज के समय लगभग सभी सेटिंग में search bar दिया रहता है उसमें हम Fixied dialing number टाइप करके आसानी से एफडीएन के ऑप्शन या विकल्प को खोज सकते हैं।

जब हम FDN को ओपन करते हैं तो हमारे सामने तीन विकल्प आते हैं जो निम्न है

  1.  FDN पर क्लिक करने के बाद हमें PIN या पासवर्ड टाइप करना होगा जिसकी चर्चा हम दूसरे विकल्प में करेंगे या फिर कौन सा पासवर्ड है इसमें टाइप करना है PIN टाइप करने के बाद यह ऑन or  एफडीएन का फंक्शन सक्रिय हो जाएगा।
  2.  दूसरे विकल्प में हमें change pin का ऑप्शन मिलेगा जिसके अंदर हमें तीन विकल्प या ऑप्शन मिलेंगे।
  3. PIN 2

यह Puk code पासवर्ड रहता है जो हमारे सिम कार्ड को सुरक्षित रखता है अगर हमारा फोन कहीं खो जाता है और हमें इस बात का डर सताए रहता है कि कोई दूसरा या अन्य व्यक्ति हमारा सिम कार्ड इस्तेमाल गलत तरीके से उपयोग करके हमें फसा ना दें तो उस जगह पर puk code एक ढाल या shield के रूप में हमारे सिम कार्ड के डाटा को सुरक्षित रखता है और वह व्यक्ति हमारे सिम कार्ड का इस्तेमाल नहीं कर पाता है।

अगर 10 बार से ज्यादा गलत पीयूके कोड उस व्यक्ति ने अगर टाइप किया है तो हमारा सिम कार्ड block ( बंद ) हो जाएगा और सारा डाटा sim card का सुरक्षित रहेगा।

  •  New Pin 2

इसमे हम जो भी पासवर्ड हम बनाना चाहते हैं हम बना सकते हैं जैसे हम आमतौर पर अपने मोबाइल फोन में PIN पासवर्ड लगाते हैं 123456.

हम यह भी कह सकते हैं कि हम कोई भी numric number जैसे :- 123456 को चुन कर है हम पासवर्ड बना सकते हैं जो भी हमारा दिल करे।

  • Confirm Pin 2

हमने जो भी पासवर्ड नया बनाया है उसको हमें दोबारा इसमें लिखना होगा क्योंकि यह एक कन्फर्मेशन के रूप में हमसे लेता है फिर उसके बाद हमारा FDN का प्रोसेस अंतिम छोर तक पहुंच जाता है।

  • FDN Lists

जो कि एक आखिरी प्रोसेस है, इसके अंदर जिस भी मोबाइल नंबर को ऐड करना चाहते हैं तो हम कर सकते हैं फिर उसके बाद हम उसी के पास आउटगोइंग कॉल कर पाएंगे जो मोबाइल नंबर एफडीएन के अंदर हमने जोड़ा या ऐड किया हैं।

जब इसे हम ओपन करेंगे तो इसमें मोबाइल नंबर एफडीएन लिस्ट के अंदर जोड़ने के लिए हमारे सामने दो तरीके आएंगे ।

  • जब हम किसी का मोबाइल नंबर सेव करते हैं ठीक उसी प्रकार इसमें हमें उस व्यक्ति का नाम और मोबाइल नंबर टाइप करना है और फिर उसके बाद पिन (पासवर्ड ) को टाइप करना है जैसे हमने चर्चा की है कि कौन सा पासवर्ड है जिसे हमें टाइप करना हैं।
  • इसमें हम मोबाइल कांटेक्ट की मदद से मोबाइल नंबर को हम FDN Contacts list के अंदर ऐड या जोड़ सकते हैं और इसमें भी हमें पिन लिखना type करना होता है।

सारी प्रक्रियाएं हो जाने के बाद हम उसी के पास कॉल कर पाएंगे जिसको हमने एफडीएन के अंदर जुड़ा है और इससे कोई भी प्रभाव या असर इनकमिंग कॉल पर नहीं पड़ेगा इनकमिंग कॉल जैसी होती है वैसी होती रहेगी मगर आउटगोइंग कॉल FDN के अंदर जो नंबर हमने अटैच किया उसी के अनुसार होगा।

FDN को कैसे बंद करे ?

इसके लिए भी हमें सेटिंग में जाना होगा और उसके बाद हमें सर्च बार में टाइप करना होगा Fixied dialing number उसके बाद उसे ओपन करना होगा फिर हमें FDN वाले विकल्प को टच करना होगा. फिर उसके बाद उसमें हम से PIN मांगेगा जो हमने एफडीएन की प्रक्रिया शुरू होने से पहले जो हमने PIN बनाया है वह डालने के बाद एफडीएन की सुविधा बंद हो जाएगी और हम सामान्य रूप से आउटगोइंग कॉल कर पाएंगे. जैसे हम पहले करते थे हम किसी के पास फोन कॉल कर पाएंगे कोई भी बाध्य नहीं रहेगा कि हम इसके पास call नहीं कर पा रहे है।

सबसे महत्वपूर्ण बात FDN के अंदर इमरजेंसी कॉल पर कोई बाध्यता नहीं रहेगी अगर हमने नंबर ऐड भी नहीं किया है तो उसके बाद भी कॉल जाएगा।

उदाहरण के तौर पर हम समझ सकते हैं कि जैसे एंबुलेंस हेल्पलाइन नंबर है 112 अगर 112 को हमने एफडीएन के अंदर नहीं अटैच किया है उसके बाद भी हमारा कॉल जाएगा।

आज आपने सिखा –

हमें यह उम्मीद है की आज का आर्टिकल fdn full form | fdn contacts meaning in hindi आपको काफी अच्छा लगा होगा तो आप इसे अपने दोस्तों के साथ भी शेयर करिएगा और साथ ही में हमारे ब्लॉक को फ्री में सब्सक्राइब कर लीजिएगा अगर आप इसी तरह की जानकारी यूट्यूब पर देखना चाहते हैं तो हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब कर लीजिएगा तो धन्यवाद  फिर मिलेंगे |

Himanshu

A Tech Enthusiastic Person Who Love to Read Book and Create Videos.

Leave a Reply